Workshop on Nutrismart Tribal Village

"पोषणवाद आदिवासी गांव" पर कार्यशाला

भा.कृ.अनु.प.- केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, के मालदा स्थित क्षेत्रीय केंद्र ने दिनांक 13/10/2018 को डॉलपुर श्री श्री ज्ञानानंद सरस्वती आश्रम, चटना, बांकुरा, पश्चिम बंगाल के सहयोग से "पोषणवाद आदिवासी गांव" पर एक कार्यशाला का आयोजन किया। इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य पोषणवाद आदिवासी गांव की अवधारणा को बढ़ावा देना था और संसाधन गरीब गांवों की वांछित मांग को पूरा करने के लिए स्थानीय लोगों को केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान (आम-अंबिका, अरुणिकांद) और अन्य संस्थानों की सब्जी किस्मों की उगाने के लिए प्रोत्साहित करना था। इस कार्यक्रम में 210 से अधिक किसानों ने भाग लिया था । कार्यक्रम की व्यवस्था सचिव, डॉलपुर श्री श्री ज्ञानानंद सरस्वती आश्रम ने की थी। इस अवसर पर गणमान्य अतिथि, श्री सुभाषिस बटाबाल (उपाध्यक्ष, बांकुरा जिला परिषद), उप निदेशक कृषि (प्रशासन), बांकुरा, परियोजना निदेशक (एटीएमए), बीएलआरडीओ, चटना भी उपस्थित थे और उन्होंने अपने अनुभव साझा करके कार्यशाला की सराहना भी की।

The regional centre of ICAR-Central Institute of Subtropical Horticulture, organized a workshop on 'Nutrismart Tribal Village' in collaboration with Shree Shree Gyanananda Saraswati Ashrama, Chatna, Bankura, West Bengal on 13/10/2018. The main aim of this workshop had to promote the concept of nutrismart tribal village and encourage the local people to grow the improved fruit varieties of CISH (Mango- Ambika, Arunikaand) and vegetable varieties of other institutes to fulfil the desired demand of resource poor villages. More than 210 farmers were attended the programme. The arrangement of the programme was made by Secretary, Dolpur Shree Shree Gyanananda Saraswati Ashrama. Dignitaries, Mr. Subhasis Batabyal (Vice Chairperson, Bankura Zilla Parishad), Deputy Director of Agriculture (Admn.), Bankura, Project Director (ATMA), BLRDO, Chatna had been also present on this occasion and graced the workshop by sharing own experiences.