Secretary, DARE and Director General, ICAR visits ICAR-CISH, Lucknow

सचिव (डेयर) एवं महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, लखनऊ भ्रमण

डॉ. त्रिलोचना महापात्रा, सचिव (डेयर) एवं महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली ने डॉ. एन.के. कृष्ण कुमार, उप महानिदेशक (बागवानी विज्ञान) तथा डॉ. जे.के. जेना, उप महानिदेशक (मत्स्य विज्ञान) के साथ 8 जून, 2016 को केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, लखनऊ का भ्रमण किया। अपने यात्रा के दौरान डॉ. महापात्रा संस्थान ने नर्सरी का भ्रमण किया तथा वहां तैयार की जा रही गुणवत्ता वाले पौधों रोपण सामग्री के कार्य की प्रशंसा की गई। उन्होंने विभिन्न फलों के जननद्रव्य ब्लॉकों को भी देखा और बीजरहित जामुन में गहरी रूचि दिखायी। उन्होंने संस्थान परिसर में आम की अरुणिका किस्म लगाया। उन्होंने संस्थान के प्रसंस्कृत उत्पादों में से कुछेक का स्वाद लिया और उनकी सराहना की। उन्होंने संस्थान के वैज्ञानिकों, प्रशासनिक और तकनीकी अधिकारियों एवं कर्मचारियों से बातचीत की तथा उन्हें परिषद से सभी संभव सहायता एवं मार्गदर्शन का आश्वासन दिया। उन्होंने उप-उष्णकटिबंधीय फल फसलों के विभिन्न पहलुओं पर किये गये प्रशंसनीय शोध के लिए संस्थान की प्रशंसा की।

Dr. Trilochan Mohapatra, Secretary DARE and Director General, ICAR, New Delhi accompanied by D.D.G. (Horticulture Science Division.), Dr. N. K. Krishna Kumar and D.D.G. (Fisheries Science Division), Dr. J. K. Jena visited ICAR-Central Institute for Subtropical Horticulture on June 8, 2016. In course of his visit, Dr. Mohapatra visited the Institute’s nursery and was praised the work of quality planting material. He also visited the germplasm blocks of different fruits and shown keen interest in seedless jamun. He planted the mango variety Arunika in the Institute’s premises. He tested some of the processed products of the Institute and appreciated them. He also interacted with the scientists, administrative and technical staff of the Institute and assured them of all possible support and guidance from the council. He praised the Institute for its commanding research on various aspects of subtropical fruit crops.