Refresher Course organized at ICAR-CISH, RRS, Malda for ATMA Officials

भा.कृ.अनु.प.-के.उ.बा.स., क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र, मालदा द्वारा एटीएमए अधिकारियों के लिए रिफ्रेशर कोर्स का आयोजन

भा.कृ.अनु.प.-के.उ.बा.स., क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र, के.उ.बा.स.-कृषि विज्ञान केंद्र, मालदा द्वारा एटीएमए के अधिकारियों के ज्ञानवर्धन के लिए दिनांक 1 से 3 फरवरी 2018 तक रिफ्रेशर कोर्स का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के सफलतापूर्ण आयोजन में राज्य नोडल अधिकारी, एटीएमए और कृषि निदेशक, पश्चिम बंगाल सरकार के कार्यालय से वित्तीय सहायता एवं कृषि उपनिदेशक (प्रशासन) का महत्वपूर्ण योगदान रहा। मालदा के 15 अलग अलग ब्लॉकों से 50 एटीएमए कार्यकर्ताओं (बीटीएम और एटीएम) ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में पश्चिम बंगाल सरकार और भारत सरकार द्वारा संचालित विभिन्न नवीनीकृत तकनीकों और योजनाओं की जानकारी दी गयी। यह पाया गया है कि एटीएमए की योजनाएं, एटीएमए के कार्यकर्ताओं की भागीदारी द्वारा जमीनी स्तर पर अधिक कारगर हैं इसलिए के.उ.बा.स.-कृषि विज्ञान केंद्र एवं के.उ.बा.स.-क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र, उत्पादकों और किसानों के बीच प्रौद्योगिकियों के बेहतर प्रसार के लिए एटीएमए अधिकारियों के साथ विभिन्न विस्तार गतिविधियों को क्रियान्वित करने की योजना बना रहा है एवं एटीएमए के कार्यकर्ताओं और किसानों के बीच प्रभावी बातचीत के लिए एक सयुंक्त मंच स्थापित करने जा रहा है।

CISH-KVK, CISH-RRS, Malda has taken initiative for up-scaling the knowledge of ATMA functionaries through 3 days Refresher Course during 1st February to 3rd February, 2018. This program was organized in collaboration with Deputy Director of Agriculture (Admn.) and financial support from Office of the State Nodal officer, ATMA and Director of Agriculture, Government of west Bengal. Fifty ATMA functionaries (BTMs & ATMs) attended the course from 15 different blocks of Malda actively participated in updating different improved technologies and schemes running by Government of West Bengal and Government of India. It has been noticed that ATMA schemes have great potential with intensive deployment of ATMA functionaries at grass root level. ICAR-CISH RRS & KVK has been planning to execute various extension activities by handholding the ATMA functionaries in disseminating improved technologies among the growers and farmers. A common platform is going to establish for effective interaction with ATMA functionaries and farmers.