Krishi Samriddhi Mela cum National Workshop on Integrated Farming System

कृषि समृद्धि मेला सह एकीकृत कृषि प्रणाली पर राष्ट्रीय कार्यशाला

रामकृष्ण मिशन आश्रम, सरगाछी, मुर्शिदाबाद और धान्यगंगा कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा भा.कृ.अनु.प.- कें.उ.बा.सं. क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र, मालदा और कृषि विभाग, पश्चिम बंगाल के सहयोग से रामकृष्ण मिशन आश्रम में दिनांक 28-31 दिसंबर 2018 को कृषि समृद्धि मेला- सह एकीकृत कृषि प्रणाली पर राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य गणमान्य अतिथि माननीय मंत्री डॉ. आशीष बनर्जी, कृषि विभाग, पश्चिम बंगाल द्वारा विशिष्ट अतिथि, माननीय उपमहानिदेशक डॉ. अशोक कुमार सिंह, भा.कृ.अनु.प., नई दिल्ली की उपस्थिति में किया गया। इसके अलावा डॉ. पीके चक्रवर्ती (सहायक महानिदेशक- पादप संरक्षण और जैव सुरक्षा, भा.कृ.अनु.प., नई दिल्ली), डॉ. एस राजन (निदेशक, भा.कृ.अनु.प.-कें.उ.बा.सं.), डॉ. एसएस सिंह (निदेशक, भा.कृ.अनु.प.- कृ.त.अनु.सं., कोलकाता) और श्री मुशर्रफ हुसैन (सबाधिपति, मुर्शिदाबाद जिला परिषद) भी विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। कृषि समृद्धि मेला में हजारो की संख्या में किसानो ने भाग लिया और भा.कृ.अनु.प. के विभिन्न संस्थानों, राज्य कृषि विश्वविधालय, कृषि विज्ञान केंद्र, गैर सरकारी संगठनों और निजी भागीदारों के कृषि और संबद्ध क्षेत्रों की विभिन्न तकनीकों का प्रदर्शन करने के लिए लगे 60 से अधिक प्रदर्शनी स्टालों को देखकर लाभान्वित हुए। इस अवसर पर एकीकृत कृषि प्रणाली को बढ़ावा देने के उद्देश्य से देश के विभिन्न हिस्सों से आये कई विशेषज्ञों ने व्याख्यान दिए और साथी किसानों तथा अन्य हितधारकों के साथ अपने अनुभव साझा किए। कार्यक्रम का समन्वय डॉ. सुजान विश्वास (वरिष्ठ वैज्ञानिक और प्रमुख, धान्यगंगा कृषि विज्ञान केंद्र, सरगाछी, पश्चिम बंगाल) और डॉ. दीपक नायक (वैज्ञानिक और प्रभारी, भा.कृ.अनु.प.- कें.उ.बा.सं. क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र, मालदा, पश्चिम बंगाल) द्वारा किया गया था।

Krishi Samriddhi Mela-2018 cum National Workshop on Integrated Farming System was organized during 28-31 December, 2018 at Ramakrishna Mission Ashrama, Sargachi, Murshidabad, W.B. by Dhaanyaganga Krishi Vigyan Kendra and Ramakrishna Mission Ashrama, Sargachi in collaboration with ICAR-CISH Regional Research Station, Malda and Department of Agriculture, Govt. of West Bengal. At beginning, Swami Viswamayananda Ji (Secretary, RKMA, Sargachi) welcomed all the dignitaries. The programme was inaugurated by Dr. Ashish Banerjee (Hon’ble MIC, Department of Agriculture, Govt. of West Bengal) as Chief Guest in presence of Dr. Ashok Kumar Singh (Hon’ble Deputy Director General, ICAR, New Delhi) as Guest of Honour, Dr. P.K. Chakrabarty (Assistant Director General- Plant Protection & Biosafety, ICAR, New Delhi), Dr. S.S. Singh (Director, ICAR-ATARI, Kolkata), Dr. S. Rajan (Director, ICAR-CISH, Lucknow), Mr. Musharaf Hossain (Sabhadhipati, Murshidabad Zilla Parishad) as special guests. Thousands of farmers participated in the Krishi Samrudhi Mela-2018 and were benefited by more than 60 exhibition stalls, demonstrating various techniques, of different ICAR institutes, state agricultural universities, KVKs, NGOs and private partners. On this occasion, several experts from different parts of the country have given lectures and shared their experiences with fellow farmers and other stakeholders for the purpose of promoting integrated agriculture system. The aforementioned programme were coordinated by Dr. Sujan Biswas (Senior Scientist and Head, Dhaanyaganga Krishi Vigyan Kendra, Sargachi, West Bengal) and Dr. Dipak Nayak (Scientist and In-charge, RRS Malda, West Bengal).