Awareness Programme on Scientific Bee Keeping

भा.कृ.अनु.प.-के.उ.बा.सं-रीजनल रिसर्च स्टेशन मालदा, प.बं. और एआईसीआरपी मधुमक्खी एवं परागण ने संयुक्त रूप से 13 और 14 अगस्त 2018 को मालदा कॉलेज ऑडिटोरियम और धन्यागंगा कृषि विज्ञान केंद्र, सरगाची, मुर्शिदाबाद में पीआई फाउंडेशन, गुड़गांव से वित्तीय सहायता द्वारा वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन पर दो दिन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। डॉ. पी.के. चक्रवर्ती (एडीजी पीपी और बी, आईसीएआर, नई दिल्ली), डॉ. एस. राजन (निदेशक आईसीएआर-सीआईएसएच, लखनऊ), स्वामी विश्वमयनंदा जी (अध्यक्ष, धन्यागंगा केवीके, सरगाची), डॉ. सी.आर. सतपथी (सेवानिवृत्त प्रोफेसर, ओयूएटी, भुवनेश्वर), डॉ. हरीश शर्मा (प्रोफेसर, वाईएसपी यूएचएफ, नौनी, सोलन, हि.प्र.), डॉ. कुमारानाग (एआईसीआरपी एचबी और पी, नई दिल्ली), श्री प्रबीर कुमार गारैन (आरकेएमए केवीके, निमपिठ) की उपस्थिति में कार्यक्रम का उद्घाटन किया गया। 13 अगस्त 2018 को मालदा जिले से 350 मधुमक्खीपालकों की सक्रिय भागीदारी और 14 अगस्त 2018 को मुर्शिदाबाद जिले के 300 प्रतिभागियों ने कार्यक्रम को सफल और जीवंत बनाया। डॉ. एस. राजन (निदेशक आईसीएआर-सीआईएसएच, लखनऊ) ने सभी गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया और मधुमक्खियों के प्रचार के लिए आईसीएआर-सीआईएसएच आरआरएस, मालदा के कार्यक्रम और भविष्य की योजना के महत्व पर बात की। उद्घाटन भाषण में डॉ. पी.के. चक्रवर्ती ने गुणवत्तायुक्त शहद और कुशल परागण के लिए मधुमक्खी पालन के महत्व पर बात की। डॉ. सी.आर. सतपथी, डॉ. हरीश शर्मा और श्री प्रबीर कुमार गारैन ने वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन पर अपने अनुभव साझा किए और गुणवत्तायुक्त शहद उत्पादन और मधुमक्खी आधारित उत्पादों हेतु मधुमक्खी उद्यमियों को प्रेरित करने के लिए कुछ सफल कहानियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने उल्लेख किया कि मधुमक्खियों का उद्योग ग्रामीण गरीब/जनजातीय/वन आधारित और भूमिहीन आबादी हेतु आजीविका का स्रोत है जिसके माध्यम से बेरोजगार युवा इस व्यवसाय को न्यूनतम धन (1.00 से 2.00 लाख रुपये) के साथ शुरू कर सकते हैं। उन्होंने विभिन्न प्रकार के मधुमक्खी उत्पाद, मास क्वीन मधुमक्खी पालन, शाही जेली निष्कर्षण, फसलों की उपज पर शहद मधुमक्खी के प्रभाव, कुशल परागणकों और परागण के लिए शहद मधुमक्खी उपनिवेशों के प्रबंधन पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि एकीकृत मधुमक्खियों के किसान को अपनाने से उनकी आय दोगुनी होकर उनकी सामाजिक आर्थिक स्थिति में वृद्धि हो सकती है। अंतिम सत्र में मधुमक्खी उद्यमियों के साथ बातचीत हुई जिसमें मधुमक्खी पालन की समस्या को समझने के लिए उद्यमियों की समस्या को तुरंत सुलझाने हेतु साथ ही भविष्य की रणनीतियों की योजना बनाने के विषय पर विचार विमर्श हुआ। गुणवत्तायुक्त शहद और निवेश की बेहतर वापसी हो सके। डॉ. दीपक नायक (वैज्ञानिक और प्रभारी, आईसीएआर-सीआईएसएच आरआरएस और केवीके, मालदा) ने डॉ. अशोक यादव (वैज्ञानिक, आईसीएआर-सीआईएसएच आरआरएस, मालदा) और आईसीएआर-सीआईएसएच आरआरएस और केवीके के स्टाफ सदस्यों, मालदा एवं पीआई फाउंडेशन के अधिकारियों की सहायता से कार्यक्रम का समन्वय किया।

Two days Awareness Programme on Scientific Bee Keeping was jointly organized by ICAR-Central Institute for Subtropical Horticulture Regional Research Station Malda, W.B & AICRP Honey Bees and Pollination on 13th & 14th August 2018 at Malda college auditorium and Dhannyaganga Krishi Vigyan Kendra, Sargachi, Murshidabad respectively with financial support from PI Foundation, Gurgaon. The programmes were inaugurated in gracious presence of Dr. P.K. Chakraborty (ADG PP & B, ICAR, New Delhi), Dr. S. Rajan (Director ICAR-CISH, Lucknow), Swami Viswamayananda Ji (Chairman, Dhannyaganga KVKendra, Sargachi), Dr. C. R. Satapathy (Retd. Professor, OUAT, Bhubaneswars), Dr. Harish Sharma (Professor, YSP UHF, Nauni, Solan, H.P.), Dr. Kumaranag (AICRP HB&P, New Delhi), Mr. Prabir Kumar Garain (RKMA KVK, Nimpith). Active participation of 350 beekeepers from Malda district on 13th August 2018 and 300 participants from Murshidabad district on 14th August 2018 made the programme colourful and vibrant. Dr. S. Rajan (Director ICAR-CISH, Lucknow) welcomed all the dignitaries and spoke on importance of the programme and future plan of ICAR-CISH RRS, Malda for promotion of beekeeping. In inaugural speech, Dr. P.K. Chakraborty (ADG PP & B, ICAR, New Delhi) spoke on importance of beekeeping for quality honey and efficient pollination. Dr. C. R. Satapathy, Dr. Harish Sharma and Mr. Prabir Kumar Garain has shared their experiences on Scientific Beekeeping and highlighted few success stories for motivating beekeepers of quality honey production and bee based products. They mentioned that beekeeping industry is source of livelihood for rural poor/tribal/forest based and landless population through which unemployed youth can start this business with minimal funds (Rs. 1.00 to 2.00 lakhs). They also discussed on diversified bee product, mass queen bee raring, royal jelly extraction, effect of honey bee on yield of crops, efficient pollinators and management of honey bee colonies for pollination. He emphasized that by adopting integrated beekeeping farmer can increase their socioeconomic status by doubling their income. The last session was kept for interaction and dialogue with beekeepers to understand the problem of beekeepers for providing on spot solution and in planning future strategies for providing possible support to beekeepers to have quality honey and better return. Dr. Dipak Nayak (Scientist & In-charge, ICAR-CISH RRS & KVK, Malda) coordinated the event with assistance from Dr. Ashok Yadav (Scientist, ICAR-CISH RRS, Malda) and staff members of ICAR-CISH RRS & KVK, Malda as well as officials of PI Foundation.