हिन्दी पखवाड़ा 2016 समापन समारोह

भा.कृ.अनु.प.-केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, लखनऊ में दिनांक 28 सितंबर, 2016 को हिन्दी पखवाड़ा का समापन हो गया। इसके समापन समारोह के अवसर पर मुख्य अतिथि एवं वक्ता के रूप में मिश्रिख (उ.प्र.) की माननीय सांसद, डॉ.(श्रीमती) अंजू बाला उपस्थित थीं। अपने मुख्य अतिथिये संबोधन में उन्होंने हिन्दी को सर्वोपरि तथा देश को एक सूत्र में पिरोने वाली भाषा बताया। उन्होंने अपनी अनुभूति के आधार पर बताया कि हिन्दी की महत्ता हम तभी समझते हैं जब अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्होंने फेसबुक, ट्वीटर, विकीपिडीया, गूगल तथा वाट्सएप जैसे अनेक माध्यमों का हिन्दी भाषियों द्वारा इस्तेमाल किये जाने को महत्वपूर्ण बताया। माननीय सांसद महोदया, डॉ. अंजू बाला भा.कृ.अनु.प.-केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, लखनऊ के हिन्दी पखवाड़ा 2016 के दौरान आयोजित हिन्दी की अनेक प्रतियोगिताओं के विजेता को दिये जा रहे प्रमाण पत्र वितरण कार्यक्रम के अवसर पर बोल रहीं थीं । इस अवसर पर संस्थान के निदेशक, डॉ. शैलेन्द्र राजन ने अपने अध्यक्षीय संबोधन के दौरान हिन्दी की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा की हिन्दी न केवल राजभाषा है बल्कि संपर्क भाषा के रूप में भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रही है। दूसरे अर्थ में हिन्दी देश की राष्ट्रभाषा भी है। उन्होंने प्रतियोगिताओं के विजेताओं को बधाई दी तथा आशा व्यक्त की कि संस्थान के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी पूरे वर्ष अपना सरकारी कार्य हिन्दी में ही करेंगे। समापन समारोह के अवसर पर हिन्दी पखवाड़ा 2016 के दौरान आयोजित प्रतियोगिताओं के विजेताओं को प्रमाण-पत्र वितरित किये गये तथा साथ ही डॉ. अशोक कुमार मिश्र, प्रभारी अध्यक्ष, फसल सुरक्षा प्रभाग को उनके हिन्दी में किये गये उत्कृष्ट कार्यों के लिये सम्मानित भी किया गया। समापन समारोह के अवसर पर सभी गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत प्रभारी अध्यक्ष, फसल उत्पादन प्रभाग, डॉ. घनश्याम पाण्डेय द्वारा किया गया जबकि धन्यवाद ज्ञापन डॉ. नीलिमा गर्ग, अध्यक्ष, तुड़ाई उपरान्त प्रबंधन प्रभाग द्वारा दिया गया। कार्यक्रम का संचालन श्री धीरज शर्मा, सहायक निदेशक (राजभाषा) ने किया।