स्वच्छता ही सेवा रिपोर्ट-24.12.2018

भा.कृ.अनु.प.-केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, रहमानखेड़ा, लखनऊ के वैज्ञानिकों, तकनीकी अधिकारियों और कर्मचारियों ने स्वच्छता सेवा अभियान में सक्रिय रूप से भाग लेकर संस्थान परिसर (निकटवर्ती रेलवे फाटक) और ब्लॉक-I मुख्य द्वार तक पहुंच मार्ग की सफाई की और देश को हरा-भरा और स्वच्छ बनाने के लिए रैली भी निकाली। वैज्ञानिकों की एक टीम ने मॉल ब्लॉक के अमलौली और कुरासर गांवों में स्वच्छ पखवाड़ा का आयोजन किया और किसानों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैलाई। संस्थान के वैज्ञानिको द्वारा शुष्क अवधि के दौरान रसोई के अपशिष्ट जल से फसलों की सिंचाई, सड़क की सफाई, जल निकासी मार्गो तथा तालाबों की सफाई और उनका रखरखाव और कचरे, स्थानीय खरपतवारों, कृषि अपशिष्टों आदि का उपयोग करके जैविक खाद तैयार करने के बारे में लोगों को जागरूक किया गया। वैज्ञानिकों ने किसानों को सुझाव दिया कि पैदावार बढ़ाने के लिए धान में एजोला का इस्तेमाल किया जाना चाहिए और दुधारू पशुओं के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पशु स्वास्थ्य विभाग से भी संपर्क करना चाहिए। संस्थान के मालदा स्थित क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिको ने संथाल जनजातियों की आर्थिक रूप से पिछड़े ग्रामीण महिलाओं को व्यक्तिगत और घरेलू स्वच्छता, कृषि पद्धतियों और गाँव की स्वच्छता में स्वच्छ भारत के बारे में जागरूक किया।