स्वच्छता ही सेवा रिपोर्ट 2018

संस्थान के वैज्ञानिकों ने दिनांक 19.09.2018 को स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम में एकत्र होकर स्वच्छता के नानाविध आयामों पर परिचर्चा की। इसके पश्चात प्रशासनिक खण्ड से सटे क्षेत्रों में साफ-सफाई की। साथ ही डॉ. राम अवध राम के मार्ग दर्शन में वैज्ञानिकों ने वर्मी कंपोस्ट बनाकर बाहर से आये लोगों को इसकी जानकारी दी।

दिनांक 20.09.2018 को संस्थान द्वारा अपशिष्ट प्रबंधन पर एक व्याख्यान आयोजित किया। इस अवसर पर संस्थान की ओर से डॉ. नीलिमा गर्ग, अध्यक्ष, तुड़ाई उपरांत प्रबंधन प्रभाग द्वारा फलों एवं सब्जियों के अवशेषों से कैसे अवशिष्ट प्रबंधन करें की जानकारी दी गयी। इसके अलावा संस्थान के ही प्रधान वैज्ञानिक डॉ. राम अवध राम ने कृषि अवशेषों से अवशिष्ट प्रबंधन पर व्याख्या की।

दिनांक 22.09.2018 को संस्थान के वैज्ञानिकों एवं अधिकारियों ने पूर्वाहन 10ः30 बजे एकत्र होकर स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की तथा संस्थान के ही प्रांगण में अनेक अवांछित पौधों, घास, गाजर घास आदि का उन्मूलन किया। इसके पश्चात वैज्ञानिकों का एक दल मलिहाबाद स्थित गाँव में जाकर स्वच्छता से संबंधित जागरूकता पैदा की।

दिनांक 24.09.2018 को संस्थान के वैज्ञानिकों ने प्रातः 10 बजे संस्थान के पोर्टिको में एकत्र होकर स्वच्छता के अनेक पहलूओं पर चर्चा की तत्पश्चात् संस्थान के वैज्ञानिकों के दल ने संस्थान के पास के लडौसी एवं बेेलगड़ा नामक ग्रामों का भ्रमण कर वहाँ के निवासियों में जागरूकता पैदा की। साथ ही दोनों गाँवों में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिये फलों के पेड़ लगाये गये तथा स्कूल के बच्चों में जागरूकता पैदा की।